Free Astrology, Astrology Today

गुप्त नवरात्री पर बुध पुष्य नक्षत्र के ख़ास उपाय ।

यह तो हम सब जानते ही हैं कि पुष्य नक्षत्र को बेहद शुभ माना जाता है और ज्योतिष शास्त्र में 27 नक्षत्रों के चक्र में पुष्य आठवां नक्षत्र होता है। इसे नक्षत्रों का राजा कहा गया है। इस नक्षत्र के देवता बृहस्पति और स्वामी शनि हैं। सभी नक्षत्रों में इसे सर्वाधिक शुभ नक्षत्र की संज्ञा दी गई है। इसमें किया गया कोई भी कार्य पुण्यदायी और तुरंत फल देने वाला होता है। वार के साथ पुष्य नक्षत्र का संयोग होने से गुरु पुष्य, रवि पुष्य, शनि पुष्य, बुध पुष्य जैसे महायोगों का निर्माण होता है, जिनमें खरीदी करने का विशेष महत्व माना गया है। पुष्य नक्षत्र मां लक्ष्मी का अत्यंत प्रिय नक्षत्र है। इसमें मां लक्ष्मी की प्रसन्नता के लिए अनेक उपाय किए जाते हैं।

- 24 जून को प्रात: 07.15 से 9.01 बजे के बीच महालक्ष्मी मंदिर में जाकर देवी को 108 गुलाब के पुष्प अर्पित करें। इससे घर में स्थायी लक्ष्मी का वास होगा।

- पुष्य नक्षत्र में दूध और चावल की खीर बनाकर चांदी के पात्र में ,माता लक्ष्मी को भोग लगाने से धन लाभ की प्राप्ति होती है।

- पुष्य नक्षत्र में श्रीसूक्त के 108 पाठ करने से जीवन के आर्थिक संकटों का नाश होता है और सुख-सौभाग्य प्राप्त होता है।

- वैवाहिक जीवन में सामंजस्य और खुशहाली के लिए पुष्य नक्षत्र में शिव परिवार का विधि-विधान से पूजन करें।

- विवाह में बाधा आ रही है तो पुष्य नक्षत्र में बृहस्पति देव के निमित्त कन्याओं को बेसन के लड्डू का वितरण करें।

- भगवान श्रीगणेश को 1008 दुर्वांकुर अर्पित करने से सुख-सौभाग्य, वैभव और ज्ञान की प्राप्ति होती है।

- बुध पुष्य नक्षत्र में भगवान श्री गणेश के संकट नाशक स्त्रोत का ११ बार पाठ करने सभी संकटो का नाश होता है। 

- विद्या बुद्धि की प्राप्ति के लिए पुष्य नक्षत्र के दिन चांदी के पात्र से दूध का सेवन करें।

नोट : किसी भी प्रकार की समस्या के समाधान के लिए गुरु जी से सीधे +91-8905816981 संपर्क करे 

Buy Gemstone
Best quality Gemstones with assurance !
Buy Yantra
Take advantage of Yantra with assurance !
Buy Rudraksh
Best quality Rudraksh with assurance !
Buy Astro Products
Best quality Astrological Products with assurance !